यूं खामोशी से बयाँ करती हो इश्क़ अपना
कि मै हर दफ़ा सोचता हू हकीकत है या सपना

Mr.Singh